Poetry of Kaagaz lyrics

This article is about Poetry of Kaagaz lyrics. We are providing song lyrics in Hindi and English Language. This song is sung by Rahul Jain, Salman Khan and music is composed by Rahul Jain.

Song :Poetry of Kaagaz
Singer: Rahul Jain, Salman Khan
Music: Rahul Jain
Lyrics: Aseem Ahmed Abbasee
Movie: Kaagaz

Main Contents:

  • Poetry of Kaagaz Lyrics in English
  • Poetry of Kaagaz Lyrics in Hindi

Poetry of Kaagaz Lyrics in English

Poetry of Kaagaz Lyrics in English

Kuch nahi hai magar hai sab kuch bhi
Kya ajab cheez hai ye kaagaz bhi

Baarishon mein hai naav kaagaz ki
Sardiyon mein alaav kaagaz ki
Aasmaan mein patang kaagaz ki
Saari duniya mein jung kaagaz ki

Kabhi akhbaar kabhi khat kaagaz
Rozmaraah ki zaroorat kaagaz
Aane jaane ki sahulat kaagaz
Jeene marne ki ijazat kaagaz

Pyar ki chitthiyan bhi kaagaz ki
Kaam ki arziyan bhi kaagaz ki
Jashn mein jhandiya bhi kaagaz ki
Jism ki mandiyan bhi kaagaz ki

Bane naaton ka bhi gawaah kaagaz
Kahin shaadi kahin nikaah kaagaz
Kahi talaak ka gunaah kaagaz
Banaye aur kare tabaah kaagaz

Note kaagaz kitaab hai kaagaz
Sabki aankhon ka khwaab hai kaagaz
Majhabo ka hisaab hai kaagaz
Raham kaagaz ajaab hai kaagaz

Chhine le khet ghar zamee kaagaz
Pochhe aankhon ki bhi nami kaagaz
Har jagah yun hai laazmi kaagaz
Jaise ghar ka hai aadami kaagaz

Kuch nahi hai magar hai sab kuch bhi
Kya ajab cheez hai ye kaagaz bhi.

Poetry of Kaagaz Lyrics in Hindi

Poetry of Kaagaz Lyrics in Hindi

कुछ नहीं है मगर है सब कुछ भी
क्या अजब चीज़ है ये काग़ज़ भी

बारिशों में है नाव काग़ज़ की
सर्दियों में अलाव कागज़ की
आसमाँ में पतंग काग़ज़ की
सारी दुनिया में जंग काग़ज़ की

कभी अख़बार कभी ख़त काग़ज़
रोज़मर्रह की ज़रुरत काग़ज़
आने जाने की सहूलत काग़ज़
जीने मरने की इजाज़त काग़ज़

प्यार की चिट्ठियां भी काग़ज़ की
काम की अर्ज़ियाँ भी काग़ज़ की
जश्न में झंडियाँ भी काग़ज़ की
जिस्म की मंडियाँ भी काग़ज़ की

बने नातों का भी गवाह: काग़ज़
कहीं शादी कहीं निकाह: काग़ज़
कहीं तलाक़ का गुनाह: काग़ज़
बनाये और करे तबाह: काग़ज़

नोट काग़ज़ किताब है काग़ज़
सबकी आँखों का ख़्वाब है काग़ज़
मज़हबों का हिसाब है काग़ज़
रहम काग़ज़ अज़ाब है काग़ज़

छीन ले खेत घर ज़मीं काग़ज़
पोंछे आँखों की भी नमी काग़ज़
हर जगह यूँ है लाज़मी काग़ज़
जैसे घर का है आदमी काग़ज़

कुछ नहीं है मगर है सब कुछ भी
क्या अजब चीज़ है ये काग़ज़ भी.

Leave a Comment